भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाता तुंहिंजे दर ते आयसि / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दाता तुंहिंजे दर ते आयसि
मुश्किल मुंहिंजी कर आसान
ॿाझ कजाएं का मूंते साईं
मुश्किल कर मुंहिंजी आसान
शर्मु रखजि का लॼड़ी रखजाइं
महितु ॾिजाएं को मूंखे मानु
बेकस आहियां बेवस आहियां
कष्ट कटे रखु मुंहिंजो शानु
तो ही सरीको ॿियो को नाहे
बेवस बंदी आहियां नादान
ऐब न मुंहिंजा तूं ही उघाड़जि
तूं ही ‘निमाणीअ’ जो ही माण
ग़ाफ़िल आहियां आउं गंवारी
हर दमु तो तां आउं कुर्बान
तो बिन मुंहिंजी कान्हे वाह
महर जी कर तूं मूंते निगाह
इहो अथमि साईं अरमान।