भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दादी की तरह दुनिया / नीरज दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निरन्तर
बीमारी में अधरझूल
झूल रही है दादी ।
यह झूलना
लगभग ख़त्म ही समझो अब
लेकिन
मन नहीं भरता, दादी का ।

दादी !
क्यों है तुम्हारा
जीये जाने से इतना मोह
अब क्या रह गया है शेष
जबकि तुम्हारे बच्चे तक
नाक-नाक आ गए हैं
अपनी नाक रखते
गली मुहल्ले के भय से

मित्रो !
दादी की तरह
दुनिया भी झूल रही है
अधरझूल !


अनुवाद : मोहन आलोक