भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दादी ने जब खो खो खेली / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुई देर तक हंसी ठिठोली ,
                 दादी ने जब खो खो खेली |

                 दौड़ रही थी दादी आगे ,
                 पीछे दौड़ी नानी |
                 नहीं पा सकी नानी उनको ,
                 लगीं मांगने पानी |
                 हंसी खूब बच्चों की टोली|
                 दादी ने जब खो खो खेली |

                 दादी हारीं नानीं हारीं,
                 दोनों का दम फूला |
                 सूज गया दादी का घुटना ,
                 नानीं जी का कूल्हा |
                 मोल व्यर्थ में आफत ले ली |
                 दादी ने जब खो खो खेली|

                हाय! बुढ़ापे में मत दौड़ो ,
                बच्चे अब समझाते|
                कैसे रहना कैसे जीना,
                बूढ़ों को सिखलाते |
                खाना पड़ी दर्द की गोली ,
                दादी ने जब खो खो खेली |