भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाबि-दाबि छाती पाती-लिखन लगायौं सबै / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दाबि-दाबि छाती पाती-लिखन लगायौं सबै
ब्यौंत लिखिबै को पैं न कोऊ करि जात है ।
कहै रतनाकर फुरति नाहिं बात कछु
हाथ धरयौ हीतल थहरि थरि जात है ॥
ऊधौ के निहोरैं फेरि नैंकु धीर जोरैं पर
ऐसे अंत ताप कौ प्रताप भरि जात है ।
सूखि जाति स्याही लेखिनी कै नैंकु डंक लागै
अंक लागैं कागर बररि बरि जात है ॥99॥