भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दारौ आऔ देस सें, परौं धोर्रा आन / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दारौ आऔ देस सें, परौं धोर्रा आन,
हमने आदर दे करौ, तनक खवइया जान।
तनक खवइया जान, रोटियँन पैं धी धरकें,
छै छिटिया भरदार, दई दो बेला भरकें।
बाल मुकुन्दै लिखा, ईसुर पठओ उरानों,
तीन सेर खा गओ आन कें मनका दानों।