भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिखाए वक़्त ने पथराव इतने / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिखाए वक़्त ने पथराव इतने
वगरना दिल पे होते घाव इतने

धड़ल्ले से ख़रीदे जा रहे हैं
ज़मीरों के गिरे हैं भाव इतने

कहानी खो चुकी है अस्ल चेहरा
किये हैं आप ने बदलाव इतने

कई सदियां लगेंगी भरते भरते
फ़सीले वक़्त पर हैं घाव इतने

बचाओ ख़ुद को अब शर्मिदगी से
कहा था हाथ मत फैलाव इतने