भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिखा देते हो जब रुख साँवले सरकार थोड़ा-सा / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिखा देते हो जब रुख साँवले सरकार थोड़ा-सा।
तो भर लेती हैं आँखें शर्बते दीदार थोड़ा-सा॥
ये खिल जाते हैं जब आँसू के कतरे पुष्प बनकर।
खिला देता है दिल में प्रेम का गुलजार थोड़ा-सा॥
जरा मस्ती की झोकों में हिली आँखों तो हिलते ही।
झलक पड़ता है प्यालों में तुम्हारा प्यार थोड़ा-सा॥
चले बिकने ये अश्कों के गुहर मुझसे कह-कह कर।
कि अब देखोगे करुनाकर का बाजार थोड़ा-सा॥
गिरे दृग ‘बिन्दु” धरती पर तो बनकर हर्फ़ यूं बोले।
पतितपावन से लिखवाते हैं हम इकरार थोड़ा-सा॥