भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन आता है, आकर गुजर जाता है / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन आता है, आकर गुजर जाता है
सिन चढ़ता है, चढ़कर उतर जाता है
हाल ले-देकर इतना ही है मुख्तसर
आदमी पैदा होता है, मर जाता है