भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन ऊंगत है रोज़ ढरत है / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन ऊंगत है रोज़ ढरत है
साल जात का देर लगत है

सुख के दिना अगर होवें तौ
सालन कौ नईं पतौ चलत है

दुःख कौ समऔ कठन है भैया
बज्जुर बैरी जान परत है

हँस कें झेलौ सुख तकलीफें
जीवन में सब लगौ रहत है

माया-मोह होत है ऐसौ
जीवे सें मन कितै भरत है

सुख हम भोगें दुःख को सैहै
बात सुगम खूबई समझत है