भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन और रात / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज रोज हो जाता है दिन,
रोज रोज हो जाती रात|
बोलो बापू क्या है कारण,
बोलो बापू क्या है बात|

बापू बोले बात जरासी,
बात ठीक से सोचा कर|
धरती माता रोज लगाती,
सूरज बाबा के चक्कर|
पेट सामने जब धरती का,
सूरज बाबा के होता|
उसी समय धरती के ऊपर,
सोनॆ जैसा दिन होता|
धरती को सूरज की होती,
कितनी अदभुत यह सौगात|

जहां पीठ धरती की होती,
वहां अंधेरा हो जाता|
धरती के पिछले हिस्से से,
सूरज जरा न दिख पाता|
थके थकाये दिन के प्राणी,
नींद ओढ़कर सो जाते,
जंगल नदियां पर्वत सागर,
अंधियारे में खो जाते|
बेटे इसी समय को हम सब,
दुनियां वाले कहते रात|

बापू बोले इसी तरह से,
होते रहते हैं दिन रात|