भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन का मन भर आया /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँझ हुई
राजगीर ने
तसला हटाया

बाबू ने
कोट का
बटन लगाया

दिन का
मन भर आया
दुबक चला साया

दुनिया
जैसे बाँझ हुई
साँझ हुई !