भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिये का हाल / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिये के पास
चल कर
पूछिये तो हाल कैसा है

रुई में
कुछ नमी है
आँसुओं को साथ लाई है
हुई कितने किसानों की
वहाँ जग से विदाई है
धुआँ
जलते हुए
गोविन्द की बस खाल जैसा है

परी भर तेल
जो उसमे पड़ा है
बहुत है कड़वा
उसे जिसने उगाया
पास उसके फूस का मड़वा
जिसे
बारिश का डर
हर साल पिछले साल जैसा है

दिये में कुछ
पसीने की महक
अब तलक है बाक़ी
किसी जुम्मन की मेहनत
इस शहर ने भला कब आँकी
सुनोगे
क्या कथा,
जुम्मन भी बस कंगाल जैसा है

इन्ही
गोविन्द, जुम्मन ने
उजाले ये बिखेरे हैं
मगर सारे दियों की तली में
बैठे अँधेरे हैं
कि जैसे
मछलियों का हाल
सूखे ताल जैसा है
दिये के पास
चल कर
पूछिये तो हाल कैसा है