भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिलों में तो दु:ख का ही आवास होगा / पवनेन्द्र पवन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दिलों में तो दु:ख का ही आवास होगा
दिखाने को चेहरों पर उल्लास होगा

मरुस्थल में प्यासो ! फ़क़त रेत होगी
भले दूर से जल का आभास होगा

उसे दु:ख धरा का सुनाना पहाड़ो!
कि अम्बर तुम्हारे बहुत पास होगा

गिरों को उठाने की बातें न करना
न हमसे सहन और उपहास होगा

है मर्यादा तो राम की तेरा शोषण
सिया! तुझको कब इसका एहसास होगा

वो मेहनतकशों की ही बातें करेगा
‘पवन’ की ग़ज़ल न कुछ ख़ास होगा