भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली थी कि दूर थी / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल्ली उतनी दूर नहीं थी
बात इतनी थी
कि एक फ़कीर गा रहा था ,
‘दूर अस्त’

रात उतनी लम्बी नहीं थी
बात इतनी थी
कि हमें भरोसा नहीं था,
सुबह आएगी

अँधेरा उतना घना नहीं था
बात इतनी थी
कि लोग खड़े थे एक जादुई मोड़ पर,
जहाँ सड़क की हज़ार-हज़ार बाँहें
हज़ार-हज़ार दिशाओं में फूटती हैं

हर बाँह का इशारा था
दिल्ली की ओर,
लुटेरों के लिए
कोई दिल्ली दूर नहीं होती
दोस्तो ! यह घरों को लौटने का वक़्त था
और हम थे कि सुबह के इंतज़ार में थे,
दिल्ली थी कि दूर थी ।