भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली दिसंबर और एक अधूरी मुलाकात / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन दिनों हम नहीं मिलते
क्यूंकि
हम दोनों मिलना जरूरी नहीं समझते
या ये कहें कि मिल चुके हैं
इतनी बार की अब मिलना भी जरूरी नहीं लगता !
दिसंबर भी गुजर जाने को है
जैसे गुजर चुकी है
पिछली जनवरी
फरवरी मार्च
कुल मिलाकर ग्यारह महीने
अभी दिसंबर बाकी है गुजर जाने को !
एक अधूरे दिसंबर में तुमसे
अधूरी मुलाकात
न जाने कब तक याद रहेगी
ये अधूरी बात,
फिलहाल तुम व्यस्त हो
और मैं
दिल्ली में अपनी रातें गिन रही हूँ !