भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली पहुँचेंगे कैसे? / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदर मामा टिकट कटाकर
चढ़े रेलगाड़ी पर,
घूम आएँगे सारी दिल्ली
सोचा, खेल दिखाकर।

गाड़ी चल दी, खूब जोर से
खाती वह हिचकोले,
खूब डरे मन ही मन मामा
घबराकर यों बोले-

मारे यहीं गए तो दिल्ली
पहुँचेंगे हम कैसे?
खिड़की से झट कूद पड़े,
बच पाए जैसे-तैसे।