भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल क़ाबिल-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ नहीं रहा / मोमिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल क़ाबिल-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ नहीं रहा
वो वलवला, वो जोश, वो तुग़याँ नहीं रहा

करते हैं अपने ज़ख़्म-ए-जिगर को रफ़ू हम आप
कुछ भी ख़्याल-ए-जुम्बिश-ए-मिज़गाँ नहीं रहा

क्या अच्छे हो गए कि भलों से बुरे हुए
यारों को फ़िक्र-ए-चारा-ओ-दरमाँ नही रहा

किस काम के रहे जो किसी से रहा न काम
सर है मगर ग़ुरूर का सामाँ नहीं रहा

मोमिन ये लाफ़-ए-उलफ़त-ए-तक़वा है क्यों अबस
दिल्ली में कोई दुश्मन-ए-ईमाँ नहीं रहा

कठिन शब्दों के अर्थ:
क़ाबिल-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ: प्रीतम के प्रेम के क़ाबिल, वलवला: जोश ख़रोश, तुग़याँ: ज़ोर- चढ़ाओ, रफ़ू: सिलाई, ख़्याल-ए-जुम्बिश-ए-मिज़गाँ: पलकों के हिलने-जुलने का ध्यान, फ़िक्र-ए-चारा-ओ-दरमाँ: दवा-दारू की चिंता, लाफ़: बकवास, शेख़ी, ढोंग इत्यादि