भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल की याद-दिहानी से / हम्माद नियाज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल की याद-दिहानी से
आँख खुली हैरानी से

रंग हैं सारे मिट्टी के
बे-रंग इस पानी से

हर्फ़-निगारी सीखी है
कमरे की वीरानी से

पेड़ उजड़ते जाते हैं
शाख़ों की नादानी से

दाग़-ए-गिर्या आँखों का
कब धुलता है पानी से

हार दिया है उजलत में
ख़ुद को किस आसानी से

ख़ौफ़ आता है आँखों को
भेद भरी उर्यानी से

रोज़ पसीना बहता है
आँखों की पेशानी से