भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल की हालत बिगड़ रही है क्यूँ / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल की हालत बिगड़ रही है क्यूँ
हर नफ़स मुझ को बे-कली है क्यूँ

दिल लगाता है बस सदा तेरी
बे-क़रारी ये बढ़ रही है क्यूँ

उस के कूचे में उम्र गुज़री फिर
कूचा-ए-यार अजनबी है क्यूँ

जिस्म जंजीर हो भी सकता है
रूह आज़ाद है रूकेगी क्यूँ

अब ये समझी हूँ जब बनी जाँ पर
मरकज़-ए-जाँ तेरी गली है क्यूँ