भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल के फफोला पर करूणा के लेप तोंही / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल के फफोला पर करूणा के लेप तोंही
तोंहीं रोग पीड़ितोॅ के दुख दैन्य हारिणी।
दोसरा के दुख लैकेॅ बँटिवाली सुख तोंही
तोंहीं मँझधार सें छोॅ सबके ही तारिणी।
तोंही अवलम्ब बेसहारा मानवोॅ के तोंही
तोंहीं बलवान में भी बोॅल के प्रसारिणी।
तोंहीं काल कालिका आ, पालिका भी तोंही छहोॅ
तोंही सत् चित् नित लोक उपकारिणी।।