भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल को हज़ार बार रोका रोका रोका / राहत इन्दौरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल को हज़ार बार रोका रोका रोका
दिल को हज़ार बार टोका टोका टोका
दिल है हवाओं का झोंका झोंका झोंका
धोखा है प्यार यार, प्यार है धोखा

ढूंढेगा कोई बहाना, ढूंढेगा कोई निशाना
दिल का बाज़ार है यहाँ तो, दिल को दिलों से बचाना
दिल को हज़ार बार

बचाना इस आशिक से बचाना, काँटों की दोस्ती से बचाना
आँखों में भर ले अँधेरा, तुम ऐसी रौशनी से बचाना
दिल को हज़ार बार रोका रोका रोका...


बचाना इस आशिक से बचाना, काँटों की दोस्ती से बचाना
आँखों में भर ले अँधेरा, तुम ऐसी रौशनी से बचाना
दिल को हज़ार बार रोका रोका रोका
दिल को हज़ार बार टोका टोका टोका
दिल है हवाओं का झोंका झोंका झोंका
दिल को बचाना धोखा न खाना
धोखा है प्यार यार, प्यार है धोखा

दिल को हज़ार बार रोका रोका रोका

यह गीत राहत इन्दौरी ने फ़िल्म 'मर्डर' (2003) के लिए लिखा था ।