भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल जो कुछ कम उदास है मेरा / सुभाष पाठक 'ज़िया'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल जो कुछ कम उदास है मेरा
लगता है ग़म उदास है मेरा

ये न कह ग़म उदास है मेरा
कह कि हमदम उदास है मेरा

देखकर ज़ख़्मे दिल की गहराई
आज मरहम उदास है मेरा

आसमानो ज़मीं का ज़िक़्र ही क्या
सारा आलम उदास है मेरा

मुझको उम्मीद है हवाओं से
जब कि मौसम उदास है मेरा

ये घड़ी की दो घड़ी की बात नहीं
वक़्त पैहम उदास है मेरा

फिर उसी 'मैं'का बोलबाला है
फिर'ज़िया' हम उदास है मेरा