भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल दिल्ली और वही इश्क जो उतारे न उतरे / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी के नजर से उतारे वाला इश्क भी अजब होता है
चौराहे को लांघते हुए
सर तक चढ़ता है
किसी ताबीज के पल्ले नहीं पड़ता
किसी पंडित मुल्ला को समझ नहीं आता
नौ ग्रह रत्न बेकाम हो जाते हैं
दवा लिए हकीम अपना सिर पीट लेता है !

सुनो
उतरा रंग होता तो चढ़ा लेते
नजर का उतारा है
कैसे उतारें.