भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल परेशां नज़र है आवारा / 'हफ़ीज़' बनारसी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल परेशां नज़र है आवारा
किसलिए हर बशर है आवारा

फूँक कर अपना घर मुहब्बत मे
ज़िन्दगी दरबदर है आवारा
 
किस की ज़ुल्फों को छू के आई है
क्यों नसीम-ए-सहर है आवारा

कुछ तुम्हारा शबाब है चंचल
कुछ हमारी नज़र है आवारा

चल रही है वह तुन्दो तेज़ हवा
जुल्फ़े-फ़िकरो-नज़र है आवारा

चांदनी है ज़मीन पर रक्सां
आसमां पर क़मर है आवारा

ज़हनो-दिल, आरजू ख़यालो-ख़्वाब
इन दिनों घर का घर है आवारा

क्या उसे रास्ते पर लाये कोई
फितरतन हर बशर है आवारा
 
कल चहकते थे अंदलीब जहाँ
अब वहाँ मुश्ते-पर है आवारा

कारवां से बिछड़ के इक राही
मिस्ले-गर्दे-सफ़र है आवारा

है तेरे इंतज़ार में मंज़िल
तू सरे-रहगुज़र है आवारा

क्या दिखायेगा राह-ए-रास्त हफ़ीज़
खुद अगर राहबर है आवारा