भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल मतां लाहीं सॼण जो दर हली खड़िकाइ तूं / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तर्ज़: तूं सखी आहीं सॿाझो

दिल मतां लाहीं सॼण जो दर हली खड़िकाइ तूं
हू अथई ॾाढो सख़ी रुॻो पांधि खे फहिलाइ तूं

जे अथई श्रद्धा सची हली
मिलु मिठे महबूब सां
सिक मंझां सॾिड़ा करे हली
सॼण खे सरिचाइ तूं
दिलि मतां लाहीं सॼण जो दर हली खड़काइ तूं

हलंदा हलिया हिन दुनिया मां
कोन को हितिड़े रहियो
कीन जी कातीअ हेठां
कंधि खे कोराइ तूं
दिलि मतां लाहीं सॼण जो दर हली खड़काइ तूं

दिल ‘निमाणी’ मेरी न कर
हली होति सां लिंव लाइ तूं
कुर्ब मां सॾड़ो करे
दिलदार खे ॿाॾाइ तूं
दिलि मतां लाहीं सॼण जो दर हली खड़काइ तूं।