भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल मेरा आज भी जवाँ कुछ है / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल मेरा आज भी जवाँ कुछ है
चाहतों का तभी निशाँ कुछ है

पाँव घरती पर हैं टिके जिसके
वो ही जाने कि आसमाँ कुछ है

आग शायद लगे यहाँ पर भी
दिख रहा सामने धुआँ कुछ है

कोशिशें की गयीं बहुत लेकिन
दिल बहलता कहाँ यहाँ कुछ है

झूमने लग गये सभी अब तो
आज बेहतर ज़रा समाँ कुछ है