भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिवलो : अेक / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिवलै री बाट में
जठै ताईं है लौ
बठै ताईं है
ऊभो होय‘र
अंधारै सूं जूझण री खिमता
थांरी ओळ्यूं बा इज लौ है
म्हैं ऊभी बाट ज्यूं बळती
अर जलम म्हारो दिवलो सो।