भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिवलो : दो / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर री
मंडेरयां माथै रा दिवला
मांदा पड़ जावै
जद देखै
पाड़ोसी रै घरां लटकती
लाईटां री लड़्यां डोळयां माथै
आवै आथूणी पूर रो झोलो
निंद जावै आंख्यां मंडेरी सूं
चिलकता माटी रा दिवलां री