भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिसावर जा / रामस्वरूप किसान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेत बिचाळै ऊभी
बांकळी जांटी
हाथ पकड़ै

बांठां में चरतौ ऊंट
गेलौ रोकै
लांडकी भैंस
ठाण फोड़ै

अणमणौं बापू
बाखळ में गेड़ा काटै

आंख्यां पूंछती मां
समान बांधै

सगळां रौ मन कैवै
ना जा, ना जा
थूं एक ई तो है
इण घर रो च्यानणौं

पण पेट कैवै
सगळां रा पेट
जा, जा
बेगौ जा
दिसावर जा।