भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीदी को बतलाऊंगी मैं / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ी हो गई अब यह छोड़ो
नानी गाय, कबूतर उल्लू
अरे चलाती में कम्प्यूटर
मत कहना अब मुझको लल्लू।

छोटे स्कूल नहीं अब जाना
बड़े स्कूल अब जाऊंगी में
पापा-मम्मी नहीं रोकना
साइकिल भी चलाऊंगी में।

बड़ा मज़ा आएगा वाव
पानी-पूरी खाऊंगी में
नहीं लगेगी अब तो मिर्ची
दीदी को बतलाऊंगी में।