भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीदी से में पढ़वा दूंगा / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं छोटा हूं इसीलिए तो
तंग मुझे तुम करते हो ना?
लेकिन जिसमें ताकत ज्यादा
उससे तो तुम डरते हो ना?

अब करोगे तंग तो सच में
जा कर दीदी से कह दूंगा
बड़ी स्ट्रांग है मेरी दीदी
उससे पिट्टी करवा दूंगा।

अगर बने तुम अच्छे बच्चे
तो दीदी से मिलवा दूंगा।
रोज़ स्कूल जाती है दीदी
दीदी से में पढ़वा दूंगा।