भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीपक जलाने आ गए हैं / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस तरह छाया क्षितिज पर था अन्धेरा
शाम का ही रूप धर बैठा सवेरा
इसलिए अब हम हृदय-दीपक जलाने आ गए हैं
आज हम उजियार का उत्सव मनाने आ गए हैं ।

एक दीपक बन स्वयं हम
स्नेह जीवन में भरेंगे और
जिनके मन अन्धेरों से घिरे हैं
आज अन्तर-ज्योति से उनके भरेंगे

पर किरण का बिम्ब दीखे हर दिशा में
हम उसे दर्पण दिखाने आ गए हैं ।

रह न जाए अब कहीं भी रात काली
इसलिए यह ज्योति अन्तस् में जला ली
चिह्न भी मिलने न पाए अब तिमिर का
इस तरह से हम मनाएँगे दिवाली

न्याय-समता-प्रेम के दीपक जलेंगे
हम विषमता को मिटाने आ गए हैं ।