भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीपक दया धरम को जारौ / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीपक दया धरम को जारौ,
सदा रात उजयारौ।
धरम करे बिन करम खुलैना,
ज्यौं कुन्जी बिन तारौं,
समझा चुके करै न रइयो।
दिया तरै अंदयारौ।
कात ईसुरी सुनलो भईया
लगजै यार न वारौ।