भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीप को दिनमान किया जाए / इसाक अश्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीप को दिनमान किया जाए
मौन को स्वरवान किया जाए

ज़िन्दगी इक खिलौना है इस पर
क्या ख़ाक अभिमान किया जाए

ज़रूरी है कि ईश्वर से पहले
किसी दीन का ध्यान किया जाए

बहुत हो चुका झूठ का अभिनन्दन
अब सत्य का सम्मान किया जाए

किसी की याद में रोने की जगह
ताज-सा एक निर्माण किया जाए