भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीप जकाँ एक नाम / बुद्धिनाथ मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन भरि गाछक छाँह जकाँ
क्यो संग चलय अभिराम
साँझ परैत बरैए मन मे
दीप जकाँ एक नाम ।

बरिसत कहियो वन-पाँतर
चेतन मेघ क जलधार
एक चिरायु तृषा सँ जीवित
ई जलहीन इनार

स्नेह क स्वाति-विंदु ले' भटकल
चातक चारू धाम।

राति-विराति पाँखि तोरै अछि
मौन क सोनचिरै
भोरे सिङरहार तर अगबे
दूभि-अछत झहरै

फूल क वाण अनिल संधानय
मारय ठाम-कुठाम।

पुरना काँपी मे गीत क सङ
देखि मयूर क पाँखि
शापित यक्ष क कथा सुमिरि
भरि आयल दूनू आँखि

आर कते दिन शीतलहरि चलतै
ई जानथि राम।