भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीया बाती बुतलोॅ जाय - लोरी / चन्द्रप्रकाश जगप्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीया बाती बुतलोॅ जाय,
नूनू आवेॅ सुतलोॅ जाय।
नींदिया रानी चललोॅ आव,
नूनू लुग में गीत सुनाव।
लेले आवें खीर-मिठाय,
हाँसी-हाँसी नूनू खाय।
घोड़ा आवै नूनू लेॅ,
मोती-रथ में जुतलोॅ जाय।
आ गे गैया दूध दहीं,
वैसने जों नै मिलै कहीं।
भैंसी केरोॅ दही जुटाव,
आरो सुरका चूड़ा फाव।
किसिम-किसिम के मीट्ठोॅ-चुक्कोॅ
नूनू सें सब छुतलोॅ जाय।