भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवार से मुख़ातिब / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीवार पर लिखी
तक़दीर
बदलने की ज़िद
हर सुबह का आग़ाज़

एक हाथ है
जो लिखता है

एक हाथ है
जो लिखे को
चाहता है मिटाना

जैसे आईने पर जमी धूल
रेशमी दुपट्टे से पोंछती
लड़कियाँ

फिर
हाथ है
दीवार से मुख़ातिब

और हसरत है
कि दीवार
हो कोई सुंदर आईना ।