भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दी देवा बाबा जी, कन्या को दान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दी देवा बाबा जी, कन्या को दान
दानू मा दान होलो, कन्या को दान।
हीरा दान, मोती दान, सब कोई देला,
तुम देला बाबा जी, कन्या को दान।
तुम होला बाबा जी, पुण्य का लोभी,
दी देवा बाबा जी, कन्या को दान।
हेम दान गजदान सब कोई देला,
तुम देला बाबा जी, कन्या को दान!