भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुख का विरह / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ है वह दुख
चट्टानों से टक्कर मारता
भरी-पूरी नदी जैसा

और ये क्या है
बून्द-बून्द टपकता
मरे हुए साँप के
विष जैसा।