भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया को जब खटके हम / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया को जब खटके हम
कितना दर-दर भटके हम

उसने नज़रें क्या फेरीं
इक शीशे-से चटके हम

ग़फ़लत के फंदे में फँस
ज्यों फाँसी पर लटके हम

दुनिया की हर मुश्किल से
टकराते हैं डटके हम

धीरे-धीरे जानोगे
हैं दुनिया से हटके हम