भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दुनिया गोलम गोल / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोलम गोल बाबा जो चश्मो,
पेटु नानीअ जो गोलम-गोल।

पाती पापा ख़मीस जेका,
बटण उनजा गोलम् गोल।

रंधणे में, अम्मां जे तए ते,
नचे रोटी गोलम-गोल।

केवी वेलणु गोल रिकेबी,
लडूं/ गोल जिलेबी गोल।

अचो त ॿारो धूम मचायूं,
चौपाल ते वॻो ढ़ोल।

ॻाए गीत पायूं फेरियूं,
आहे दुनियां गोलम गोल!