भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुश्मन / प्रीत में है जीवन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: आरजू लखनवी , गायक:के.एल.सहगल                 

प्रीत में है जीवन जोखों, कि जैसे कोल्हू में सरसों
प्रीत में है जीवन जोखों..

भोर सुहानी चंचल बालक, लरकाई (लडकाई) दिखलाये
हाथ से बैठा गढे खिलौने,पैर से तोडत जाये..

वो तो है, वो तो है, एक मूरख बालक,तू तो नहीं नादान
आप बनाये आप बिगाडे, ये नहीं तेरी शान