भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दु:ख / अर्जुनदेव चारण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अपने दुःख को
कोई याद नहीं रखता मां
वह भी नहीं
जो
रचता है तुम्हें।

अनुवाद :- कुन्दन माली