भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूधन भरी तलावड़ी लोणी बांधी पाळ / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दूधन भरी तलावड़ी, लोणी बांधी पाळ
वहां भोळा धणियेर न्हावण करऽ
रनुबाई हुआ पणिहार
न्हावतज धोवतऽ मथो मथ्यो, कुणऽ घर जासां मेजवान,
कुणऽ घर अम्बा आमली, कुणऽ घर दाड़िम अनार,
ऊ घर सूखा केवड़ा हो, रनुबाई मेहका लेय।
दूर का अमुक भाई अरजकरऽ, उनऽ घर हुसाँ मेजवान।।