भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूरी रे गवन सै, ऐलै रे कवन बाबू / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रस्तुत गीत में पति की महत्ता वर्णित है। भरे-पूरे परिवार में रहने पर भी पति के बिना पत्नी का जीवन निरर्थक है। पत्नी की वचन-चातुरी से प्रसन्न होकर पति द्वारा उसे अपने साथ विदेश ले जाने का उल्लेख भी इस गीत में है।

दूरी रे गवन सेॅ, ऐलै रे कवन बाबू।
बटिअहिं[1] परि गेलै[2] साँझ रे गवनमा॥1॥
कहाँ गेली किय भेली, सुहबे कनियान दाय[3]
सूहबे, कोहबर में येहे बिध बेहबार, रे गवनमा॥2॥
एक हमें राजा बेटी, दोसरो ससुइया[4] पुतहू।
मोरो सेॅ नै होएतो, बिध बेबहार रे गवनमा॥3॥
एतना बचन जबे, सुनलनि कवन बाबू।
घोड़ा पीठि भेलै, असबार रे गवनमा॥4॥
पटोर झारि झूरी, बाहर भेली सूहबे दाय।
सूहबे धरी लेलन, घोड़ा के लगाम रे गवनमा॥5॥
अपने जे जाय छै परभु, देस बिदेस।
हमरा कै कहाँ छाड़ने, जाय छे रे गवनमा॥6॥
नैहरा में छथुन सुनरी, माइ बाप भैया।
ससुरा में छथुन, छोटका देबर रे गवनमा॥7॥
बिनु रे मैया बाप, कैसन नैहरबा।
बिनु रे सामी, कैसन ससुररिया रे गवनमा॥8॥
डोलिया कानैते[5], माइ बाप भैया रे।
जूदा करी देतो, छोटका देबरबा रे गवनमा॥9॥
एतना बचनिया जबे, सुनलनि कनिया सुहबे।
रोकी रखलनि, जबाब रे गवनमा॥10॥
एतना बचनिया जबे, सुनलनि कवन बाबू।
सुहबे लेलन अँगुरी, लगाइ रे गवनमा॥11॥

शब्दार्थ
  1. रास्ते में
  2. पड़ गया; हो गया
  3. कम उम्र की बच्ची या घर की लड़की के लिए प्यार का संबोधन
  4. सास की
  5. रोते हुए