भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूर कहीं वंशी बजी लगी झमकने झाँझ / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पंख समेटे धूप ने
उतरी नभ से साँझ
दूर कहीं वंशी बजी
लगी झमकने झाँझ

दिन भर भटकी प्यास से
खूँटे लौटी गाय
चारा-सानी कुछ नहीं
यों ही खड़ी रँभाय

फ़सल काट खलिहान रख
घर को चला किसान,
पूरब से उठते दिखे
आँधी और तूफ़ान।

हतप्रभ होकर देखता
भीषण झंझावात
कैसे मेंहदी रचेगी
अब बिटिया के हात।