भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूर क्षितिज पे / गौतम राजरिशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर क्षितिज पे जमीं को
छूता हुआ नील गगन-
तुझ जैसा ही तो है वो
ओ मेरे एकाकी मन
क्यों इतना उदास है तू
क्यों बना है अकिंचन
डूबा है तू किस सोच में
किस बात का है चिंतन
प्राची से आती हुई
सूर्य की प्रथम किरण
तू ही तो है वों
ओ मेरे एकाकी मन
मुर्झाई है हर कली यहाँ
कि ये कैसा है उपवन
अजनबी बन गया है आज
क्यों तेरा वो अपनापन
भाव-पुष्प कर दूँ तुझपे
मैं सारा का सारा अर्पण
बस जरा सा हँस ले गा ले
ओ मेरे एकाकी मन
नियती बन गयी है आज
क्यों आज तेरी दुश्मन
खो गया है आज कहाँ
तेरा वो परिचय नूतन
इस जगत की व्यथा से
खंडित हुआ कोई दर्पण
तू युग-पावक युगद्रष्टा है
ओ मेरे एकाकी मन