भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूर तक इक सराब देखा है / ज़ुल्फ़िकार नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर तक इक सराब देखा है
वहशतों का शबाब देखा है

ज़ौ-फ़िशाँ क्यूँ है दश्त के ज़र्रे
क्या कोई माहताब देखा है

बाम ओ दर पर है शोलगी रक़्साँ
हुस्न को बे-नक़ाब देखा है

नामा-बर उन से बस यही कहना
नीम-जाँ इक गुलाब देखा है

अब ज़मीं पर क़दम नहीं टिकते
आसमाँ पर उक़ाब देखा है

मेरी नज़रों में बाँकपन कैसा
जागता हूँ कि ख़्वाब देखा है