भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखी केवल भीड़ और हिम्मत खो बैठे / मुकुट बिहारी सरोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शायद तुमने, दुनिया को, देखा ही नहीं क़रीब से
इसीलिए बातें करते हो हारी-हारी-सी !

देखी केवल भीड़ और हिम्मत खो बैठे
रचे-रचाए मन की सब मेहंदी धो बैठे !
मुस्कानों की फ़सल उगेगी भी तो कैसे
जब सपनों के खेतों में आँसू बो बैठे !!

             मौन मुखर करने के लिए किसी मूरत का
             इतना ढालो नेह डूब जाए मन्दिर की बारहदारी !

लहरों की इन बातों में कुछ सार नहीं है
इस अपार पानी का कोई पार नहीं है !
क्योंकि नाव कोई-कोई देखी ऐसी भी
जिसे डुबाने कोई भी तैयार नहीं है !!

              बहने वाला हो तो ये मँझधारें क्या हैं
              आगे-आगे हाथ पकड़ खुद चलती है आँधी बेचारी !!

लगी बुरी होती है कैसे काम न होगा
और बहुत से बहुत तुम्हारा नाम न होगा !
चलती जब तक साँस समय का साथ निबाहो
जीवन तो फिर कम से कम बदनाम न होगा !!

               कैसे सम्भव जहाँ तुम्हारा गिरे पसीना
               वहाँ उतर कर चाँद न आए करने को आरती तुम्हारी !!