भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखेॅ ई समाजेॅ के विधान सतरंगो केन्हेॅ / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखेॅ ई समाजेॅ के विधान सतरंगो केन्हेॅ
कहीं धोॅन आकाश लागै लक्ष्मी सुहाबै छै।
कहीं जनें जोॅन माँगे घ्ज्ञरें-घरंे बॅन माँगे,
छोटो छिनो बाल बच्चा अन्नो लेॅ कनाबै छै।
केकरो मथा के बाल सुखलो सनाठी हुबै,
केकरो जानबरै नें सेम्पू सें नहाबै छै।
केकरो देहो पेॅ जाड़ा भगता पेॅ देवी पाड़ा
केकरो देहो केॅ उनें किला रं सजाबै छै॥